Skip to toolbar

Samsara – Aisa Lagta Hai (Remix)

11 views
Samsara Aisa Lagta Hai (remix)

Description

Samsara – Aisa Lagta Hai (Remix)

Lyrics

O, aisa lagta hai,
jo naa hua hone ko hai
Aisa lagta hai,
ab dil mera khone ko hai
Varna dil kyoon dhadakta,
saansein kyoon rukti
Neendein meri kyoon ud jaati

--MALE--
Aisa lagta hai,
jo naa hua hone ko hai
O, aisa lagta hai,
ab dil mera khone ko hai
Varna dil kyoon dhadakta,
saansein kyoon rukti
Neendein meri kyoon ud jaati

--FEMALE--
O, aisa lagta hai,
jo naa hua hone ko hai

--MALE--
Koi chehraa nigaahon pe chhaane lagaa

--FEMALE--
Koi ab roz khwaabon mein aane lagaa

--MALE--
Aayi ruth jo nayi, jaage armaan kayi

--FEMALE--
Mausam koi ghazal jaise gaane lagaa

--MALE--
O, aisa lagta hai,
jaise nasha hone ko hai

--FEMALE--
Ho, aisa lagta hai,
hosh mera khone ko hai
Varna dil kyoon dhadakta,
saansein kyoon rukti
Neendein meri kyoon ud jaati

--MALE--
O, aisa lagta hai,
jo naa hua hone ko hai

--FEMALE--
Maheki maheki fiza ne li angdaaiyaan

--MALE--
Neeli neeli hain baadal ki parchhaaiyaan

--FEMALE--
Thandi thandi hawaa laayi raag naya
Goonji goonji si hain jaise shehnaaiyaan

--MALE--
O, aisa lagta hai,
koi mera hone ko hai
Aisa lagta hai,
har faslaa khone ko hai
Varna dil kyoon dhadakta,
saansein kyoon rukti
Neendein meri kyoon ud jaati

--FEMALE--
O, aisa lagta hai,
jo naa hua hone ko hai

--MALE--
Aisa lagta hai,
ab dil mera khone ko hai

--FEMALE--
Varna dil kyoon dhadakta

--MALE--
Saansein kyoon rukti

--BOTH--
Neendein meri kyoon ud jaati

हो, ऐसा लगता है जो न हुआ होने को है
ऐसा लगता है अब दिल मेरा खोने को है
वरना दिल क्यूं धड़कता साँसें क्यूं रुकतीं
नींदें मेरी क्यूं उड़ जातीं
ऐसा लगता है जो न हुआ होने को है
ओ, ऐसा लगता है अब दिल मेरा खोने को है
वरना दिल क्यूं धड़कता साँसें क्यूं रुकतीं
नींदें मेरी क्यूं उड़ जातीं
हो, ऐसा लगता है जो न हुआ होने को है
कोई चेहरा निगाहों पे छाने लगा
कोई अब रोज ख्वाबों में आने लगा
आई रुत जो नई जागे अरमां कई
मौसम कोई गज़ल जैसे गाने लगा
ओ, ऐसा लगता है जैसे नशा होने को है
हो, ऐसा लगता है होश मेरा खोने को है
वरना दिल क्यूं धड़कता साँसें क्यूं रुकतीं
नींदें मेरी क्यूं उड़ जातीं
ओ, ऐसा लगता है जो न हुआ होने को है
महकी महकी फ़िज़ा ने लीं अंगड़ाईयां
नीली नीली हैं बादल की परछाईयां
ठंडी ठंडी हवा लाई राग नया
गूंजी गूंजी सी हैं जैसे शहनाईयां
ओ, ऐसा लगता है कोई मेरा होने को है
ऐसा लगता है हर फ़ासला खोने को है
वरना दिल क्यूं धड़कता साँसें क्यूं रुकतीं
नींदें मेरी क्यूं उड़ जातीं
हो, ऐसा लगता है जो न हुआ होने को है
ऐसा लगता है अब दिल मेरा खोने को है
वरना दिल क्यूं धड़कता साँसें क्यूं रुकतीं
नींदें मेरी क्यूं उड़ जातीं

Listen

Aisa Lagta Hai - Samsara D Band

Download

Aisa Lagta Hai Remix_Samsara.mp3

Related Articles

Responses