Mukesh & Deodath Colai – Ram Chandra Keh Gaye Siya Se

Description

Mukesh & Deodath Colai – Ram Chandra Keh Gaye Siya Se

Artiste: Mukesh And Deodath Colai
Song: Ram Chandra Keh Gaye Siya Se
Produced By: Kishore Wizzy Ramdath
Mixed and Mastered: Wizz Studio

Lyrics

He ji re`
He ji re
He ji re he
hey Ramchandra keh gaye siya se
Ramchandra keh gaye siya se
aisa kaljug aayega
hans chugega daana dunka
hans chugega daana dunka
kauwa moti khayega
he ji re
he ji re

dharam bhi hoga karam bhi hoga
dharam bhi hoga karam bhi hoga
parantu sharam nahi hogi
baat baat me maata pita ko
baat baat me maata pita ko
beta aankh dikhayega
he ramchandra keh gaye siya se

Raja aur praja dono mein
hogi nis din khinchaatani
khinchaataani
kadam kadam par karenge dono
apni apni manmaani manmaani
hey
jiske haath mein hogi laathi
jiske haath mein hogi laathi
bhains wahi le jaayega

he ramchandra keh gaye siya sey
suno siya kaljug mein
kaala dhan aur kaale man honge
kaale man honge
chor uchchakke nagar seth
aur prabhu bhakt nirdhan honge…
nirdhan honge
hey jo hoga lobhi aur bhogi…..
jo hoga lobhi aur bhogi
wo jogi kehlayega…

he ramchandra keh gaye siya se…….
mandir soona soona hoga
bhari rahengi madhushaala …..
madhushaala
pita ke sang sang bhari sabha mein
nachengi ghar ki baala…..
ghar ki baala
hey kaisa kanya daan pita hi………
kaisa kanya daan pita hi
kanya ka dhan khaayega

he ji re……. he ji re he…….

hey
moorakh ki preet buri jue ki jeet buri
bure sang baith chain bhaage hi bhaage

hey kaajal ki kothri mein
kaiso hi jatana karo
kaajal ka daag bhai laage hi laage
re bhai
kaajal ka daag bhai laage hi laage
he ji re….. he ji re…..

hey kitna jati ho koi kitna sati ho koi
kamini ke sang kaam jaage hi jaage

suno kahe gopiram jiska hai ramdhaam
uska to phand gale
laage hi laage re bhai
uska to phand gale laage hi laage
he ji re……..
he ji re………

हे जी रे, हे जी रे
हे जी रे, हे जी रे
रामचंद्र कह गए सिया से
रामचंद्र कह गए सिया से ऐसा कलयुग आएगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
हे जी रे, हे जी रे
रामचंद्र कह गए सिया से
रामचंद्र कह गए सिया से ऐसा कलयुग आएगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
अरे, रामचंद्र कह गए सिया से…
सिया पूछे, “भगवन कलयुग में धर्म कर्म को कोई नहीं मानेगा?”
तो प्रभु बोले, “धरम भी होगा, करम भी होगा”
धरम भी होगा, करम भी होगा, लेकिन शर्म नहीं होगी
बात-बात में मात-पिता को…
बात-बात में मात-पिता को बेटा आँख दिखाएगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
हे, रामचंद्र कह गए सिया से…
राजा और प्रजा दोनों में होगी निसदिन खींचा-तानी, खींचा-तानी
कदम-कदम पर करेंगे दोनों अपनी-अपनी मनमानी, मनमानी
जिसके हाथ में होगी लाठी…
जिसके हाथ में होगी लाठी, भैंस वही ले जाएगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
हे, रामचंद्र कह गए सिया से…
सुनो सिया कलयुग में काला धन और काले मन होंगे, मन होंगे
चोर उचक्के, नगरसेठ और प्रभु-भक्त निर्धन होंगे, निर्धन होंगे
जो भी होगा लोभी-भोगी…
जो भी होगा लोभी-भोगी वो जोगी कहलायेगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
हे, रामचंद्र कह गए सिया से…
मंदिर सूना-सूना होगा, भरी रहेंगी मधुशाला, हो मधुशाला
पिता के संग-संग भरी सभा में नाचेंगी घर की बाला, घर की बाला
कैसा कन्यादान पिताही…
कैसा कन्यादान पिताही, कन्या का दान खा जाएगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
हंस चुगेगा दाना-दुनका, कौआ मोती खाएगा
मूरख की प्रीत बुरी, जुए की जीत बुरी
बुरे संग बैठ, चैन भागे ही भागे
काजल की कोठरी में कैसो ही जतन करो
काजल का दाग़ भाई लागे ही लागे रे भी
काजल का दाग़ भाई लागे ही लागे
हे जी रे, हे जी रे
कितना जती हो कोई, कितना सती हो कोई
कामनी के संग काम जागे ही जागे
सुनो कहे गोपीराम जिसका है नाम काम
उसका तो फंद गले लागे ही लागे रे भाई
उसका तो फंद गले लागे ही लागे

Listen

Download
  1. Song
Donate

Please consider Donating to keep our culture alive


Please consider Donating to keep our culture alive

Leave a comment