Neelam Matadin Ft. Fariz Barsatie – Khushiyan Aur Gham

8 views

Description

Neelam Matadin Ft. Fariz Barsatie – Khushiyan Aur Gham ( 1999 Bollywood Cover )

Khushiyan Aur Gham – Neelam Matadin & Fariz Barsatie
Music: Karan Mathoera
Guitar: Kevin Sanmoestam
Video | Photo: Sallo

Original Credits:
Movie: Mann (1999)
Song: Khushiyan Aur Gham
Starcast: Aamir Khan, Manisha Koirala & Sharmila Tagore
Singer: Udit Narayan, Anuradha Paudwal
Music: Sanjeev Darshan
Lyrics: Sameer

Lyrics

Khushiyan Aur Gham Saihti Hai
Phir Bhi Ye Chupp Rehti Hai
Abh Tak Kisi Ne Na Jaana
Zindagi Kya Kehti Hai
Khushiyan Aur Gham Saihti Hai
Phir Bhi Ye Chupp Rehti Hai
Abh Tak Kisi Ne Na Jaana
Zindagi Kya Kehti Hai
Apni Kabhi, To Kabhi Ajnabi
Aansoon Kabhi, To Kabhi Hai Hansee
Dariya Kabhi, To Kabhi Tishnagi
Lagti Hai Ye To
Khushiyan Aur Gham Saihti Hai
Phir Bhi Ye Chupp Rehti Hai
Abh Tak Kisi Ne Na Jaana
Zindagi Kya Kehti Hai
Khamoshiyoon Ki Dheemi Sadaa Hai
Ye Zindagi To, Rab Ki Dua Hai
Chu Ke Kisi Ne Isko, Dekha Kabhi Na
Aihsaas Ki Hai Khushboo,
Meheki Hawa Hai
Khushiyan Aur Gham Saihti Hai
Phir Bhi Ye Chupp Rehti Hai
Abh Tak Kisi Ne Na Jaana
Zindagi Kya Kehti Hai
Ahaa Aa Aa Aa
Umm Hmm Umm Umm
Mann Se Kaho Tum, Mann Ki Suno Tum
Mann Meet Koi, Mann Ka Chuno Tum
Kuch Bhi Kahegi Duniya
Duniya Ki Chodo
Palkon Mein Sajke Jhil Mil
Sapnay Bunoo Tum
Khushiyan Aur Gham Saihti Hai
Phir Bhi Ye Chupp Rehti Hai
Abh Tak Kisi Ne Na Jaana
Zindagi Kya Kehti Hai
Apni Kabhi, To Kabhi Ajnabi
Aansoon Kabhi, To Kabhi Hai Hansee
Dariya Kabhi, To Kabhi Tishnagi
Lagti Hai Ye To
Khushiyan Aur Gham Saihti Hai
Phir Bhi Ye Chupp Rehti Hai
Abh Tak Kisi Ne Na Jaana
Zindagi Kya Kehti Hai

खुशियां और गम सहती हैं
फिर भी ये चुप्प रेती है
अब तक केसी ने ना जाना
जिंदगी क्या कहती है
खुशियां और गम सहती हैं
फिर भी ये चुप्प रेती है
अब तक केसी ने ना जाना
जिंदगी क्या कहती है
आपनी कभी, कभी अजनाबी
आंसुं कभी, तो कभी हैसी
दरिया कभी, तो कभी तिश्नगी को
लागती है ये
खुशियां और गम सहती हैं
फिर भी ये चुप्प रेती है
अब तक केसी ने ना जाना
जिंदगी क्या कहती है
खामोशीयां की धेमी साडा है
ये जिंदगी तो, रब की दुआ है
चू केसी ने इसको, दे खा कभी ना
अहिंसा की है खुशबू,
मेहेकी हवा है
खुशियां और गम सहती हैं
फिर भी ये चुप्प रेती है
अब तक केसी ने ना जाना
जिंदगी क्या कहती है
अहा आ आ आ
उम्म हम्म उम्म्म उम्म्म
मन से कहो तुम, मन की सुनो तुम
मन मीत कोइ, मन का चुनो तुम
कु छ भी कहेगी दुिनया
दुनीया की चोदो
पलकें मैं सजके झिल मिल
सपनय बनउ तम
खुशियां और गम सहती हैं
फिर भी ये चुप्प रेती है
अब तक केसी ने ना जाना
जिंदगी क्या कहती है
आपनी कभी, कभी अजनाबी
आंसुं कभी, तो कभी हैसी
दरिया कभी, तो कभी तिश्नगी को
लागती है ये
खुशियां और गम सहती हैं
फिर भी ये चुप्प रेती है
अब तक केसी ने ना जाना
जिंदगी क्या कहती है

Listen

Download
  1. Song
Donate

Please consider Donating to keep our culture alive


Please consider Donating to keep our culture alive

Related Articles

Responses