Skip to toolbar

Why Married Women Wear Sindoor (सिंदूर) ?

Why Married Women Wear Sindoor

Sindoor, made up of a vermillion coloured powder, put in the middle parting of a woman’s hair (also called “mang” in Hindi and “simandarekha” in Sanskrit) is a sign of a married Indian woman, but the significance of sindoor is more than that. At the time of the wedding, the sindoor also known as “Kumkum” is first applied to the parting of the bride’s hair by her groom. It is a symbol of matrimony and a widow or an unmarried woman can not apply it.

It is a symbol of female energy and traditionally always applied in the centre. After its application, it becomes a ritual.

Sindoor is prepared by mixing turmeric, lime and cinnabar. One of the main components of the traditional sindoor is cinnabar, which is a toxic mercury sulfide mineral and has a bright red color which has caused people to use it as a pigment for thousands of years in many parts of the world, such as Indian subcontinent, Bangladesh, Pakistan, Nepal, Sri Lanka and countries where Hindu tradition is practised.

Why Married Women Wear Sindoor

Cultural, Astrological and Religious Importance and Belief
Application of Sindoor is a Hindu tradition. There are several stories and reasons behind the application of sindoor.
Goddess Parvati, wife of Lord Shiva embodies strength and courage. It has been said that Parvati wanted to marry Lord Shiva for which she performed ‘tapas’ which means ‘austerity’ or discipline. Lord Shiva, finally appears and accepts her hand in marriage but on a condition. The condition was to sacrifice Parvati’s third eye, which is on her forehead.
Parvati accepts the condition and on the day of marriage Shiva removes her third eye, it starts bleeding. Thus, the area becomes the place where women apply sindoor and why sindoor is red and not some alternative colour. And also why, application of Sindoor is performed during marriage.
Another reason why sindoor is applied is when the women figurines were extracted from the ground at Mehrgarh, Balochistan showed women with sindoor in the partition of their hair in Harappa culture.
The fact that sindoor is said to be applied to show a woman’s love and devotion for her husband has its reason behind it. It is also about the orange sindoor which comes from Ramayana. Sita, wife of Lord Rama and Lord Hanuman, a devotee of Lord Rama are central figures in this Indian epic. Sita is known for her self-sacrifice because she had to prove her purity and love for her husband Lord Rama. Hanuman was sent by Rama to rescue Sita in Lanka.
Hanuman saw Sita applying a red dot to show her devotion and love for Lord Rama. Seeing her, Hanuman bathed himself in orange sindoor to show his devotion to Lord Rama. Rama was pleased to know that Hanuman smeared his body with sindoor to add years to Lord Rama’s life. Thus, Hanuman’s devotees apply orange sindoor to show their devotion and love to Lord Hanuman.
According to the legends, Lord Krishna’s consort Radha turned the Kumkum or sindoor into a flame-like design on her forehead. Sindoor is applied in many ways, like a dot in the centre of the forehead called bindi, an upward going line on the forehead called a “Tilak”, and sindoor in the middle parting of a woman’s hair.
Social norms dictate that after marriage sindoor must stay with the woman, or she with it, as long as her marriage lasts. Sindoor is a proof of monogamy, it confirms her unavailability and marital status, along with mangal sutra, bangles, nose pin, toe rings, ring etc.
Red colour shows strength, power and beauty, all these qualities reside in a woman. Women wear sindoor to celebrate her matrimony. When the sindoor is applied in the mang of a woman it starts from the front of the mang and goes upwards along the parting, the upward direction shows the growth and positivity. Also, sindoor is a visible expression of a woman’s desire for her husband’s long life.
Kumkum or sindoor has an emotional connect in India. Some would say that sindoor is applied because of the fear of widowhood but it is not. According to the Hindu culture and mythology, sindoor or Kumkum symbolizes fertility, growth and prosperity. Many women wear sindoor like a dot which is called bindu or bindi.
When you need to draw something, a line or anything, you put a dot first, because without a dot you cannot draw anything. So, a bindu symbolizes a seed, without seed you cannot grow anything, therefore it is said to be a symbol of fertility and growth.
Astrologically, Aries which is called mesha rashi resides on the forehead of the human body. Mars is the planet which was ruled by the lord of Aries. Mars is red. Sindoor being red and also applied on the forehead, holds a very important place in Hinduism. Sindoor affects the well-being of not only the married woman but also of her significant other.

Why Married Women Wear Sindoor

In many of the Hindu festivals like Navratri and Teeja, sindoor plays a very important role. Navratri, also known as Durga Puja or Durga Pooja is a festival where we revere and pay homage to the Hindu Goddess, Durga. It is particularly popular in West Bengal.

There is a Bengali Hindu tradition where women smear each other with sindoor on Vijayadashami, the last day of Durga Pooja. In this ritual, Bengali married women apply sindoor on the forehead and feet of the goddess. Here the luscious red is used to celebrate womanhood. In festivals like Teeja, the husband is required to apply the sindoor on the parting of the hair of their wives to pay her respect and show her that, their relationship is as strong and deep as the colour of this vermillion.

Present Day Scenario

Application of sindoor still holds the same significance and value. Even today, for a married Hindu woman, the sindoor proves her desire for her spouse’s long life, growth and prosperity. It also shows her undying love for her significant other.

However, with all the modernization, the tradition of applying sindoor now is merely a formality for this generation in several sections of Hindu society. The women of today’s generation had been liberated from this custom, they are now totally in charge of whether they want to apply sindoor or not. Although, during certain festivals and rituals, it is customary for a husband to put sindoor on his wife’s forehead. Sindoor now has been accessorized, it is modernized by the new generation.

Scientific Significance of Application of Sindoor

Apart from being the symbol of matrimony for a Hindu woman, sindoor (red vermilion powder) has some scientific significance. It contains turmeric, lime, and a minute level of the metal mercury. When sindoor is applied on the bride’s hair partition, the mercury cools down the body and makes her feel relaxed. It also triggers a sexual drive among them. And this is the reason why widows or unmarried women are not allowed to wear it.

Marriage is a sacred institution which marks the beginning of a new life for a bride and groom. There are many rituals performed during the marriage ceremonies and each ritual has its own importance. But, the most important custom of every Hindu wedding is Sindoor Dana. Here, the groom puts sindoor (red vermilion powder) on his bride’s hair partition, thus symbolising her marital status. In some communities, it is the groom’s mother who does this part to welcome the bride into their family. Putting sindoor is not just a ritual, but signifies a long life for the husband. But, this is just one aspect of it. So, let us tell you more about this important practice. So, here are a few important points worth noting when you think of the significance of sindoor for women.The modern society perceives sindoor as a demarcation line between the married and the unmarried women. But, this is not the case. This practice is much deep-rooted. The ritual has been performed for over 5000 years now. Its use has been well documented in Harappan excavations. Sindoor also finds a mention in the Puranas, Lalitha Sahasranamam and Soundarya Lahharis. It is suggested that the red colour symbolises power. According to the Hindu mythology, a woman has to adorn sindoor till the time her husband is alive. Even Goddess Parvati (wife of Lord Shiva) and Sita (wife of Lord Rama), use to put sindoor on their hair partition. It is believed that Goddess Parvati not only protects the husbands of all the married women who put sindoor, but also wards off any lurking evil. So, the next time your wife applies it, she is indirectly praying for your long and healthy life. The application of sindoor is not just a ritual, but a practice which stimulates good health. On one hand, it serves as a longevity prayer for the husband, but on the other, it keeps a tab on the woman’s physical well-being. The sindoor is prepared using turmeric and lime. Turmeric helps to ease stress and strain. It also helps in keeping the brain active and alert.

Why Married Women Wear Sindoor

For a happy married life

From vaastu to feng shui, women make every possible effort to bring in happiness and prosperity in their homes. But, it is this ritual of applying sindoor which can ease all your efforts. According to the Hindu astrology, applying sindoor on the hair partition is considered to be auspicious as it brings good fortune. Besides this, it is believed that putting the red vermilion powder also activates the chakras in the forehead and on the crown. This attracts cosmic and pranic energy and bestows the couple with prosperity and good health.

Astrological significance of sindoor

According to Indian astrology, mesha raashi (Aries) is on the forehead of a human body. The Lord of Aries or its ruling planet is Mars. This planet is red in colour which is believed to be auspicious. Sindoor being red in colour and also applied on the forehead, holds a very important place in Hindu tradition. Astrologically, sindoor significantly affects the well-being of not only the married woman but also of her life partner.

Use of sindoor during festivals

There is a huge significance of sindoor when it comes to festivals. In many of the Hindu festivals like Navratri and Teej, it is a ritual that husbands apply sindoor on the forehead of their wives. In fact, in many of the Hindu temples, sindoor is offered to many Goddesses.

Reasons for applying sindoor in maang

It is believed that because sindoor is a turmeric-based powder, it absorbs the unwanted and bad water in the forehead region, only leaving pure water on the forehead which enhances the power of concentration for women. As per Hindu mythology, the sixth chakra, also called the third eye is centred on the forehead between the eyebrows. Hence, sindoor acts as a channel between the spiritual and mental being of a wife.

sindoor

We never come across any married woman who isn’t wearing sindoor in the parting of her hair. A married woman is considered to be incomplete without vermillion on her head. If you go through the Hindu mythology, vermillion (sindoor) have a lot of spiritual importance in our traditions.

But did you ever ask why these married women are always seen wearing vermillion? Is it mere a symbol of being married or does it have any other significance? But if you ask us, wearing sindoor is more than just a tradition. It is followed due to many reasons. Read on to know what these reasons are.

1. Traditionally, It is worn to ensure husband’s longevity
In the traditional Hindu society, it is considered a must for every woman to wear sindoor after marriage. It was carried out by a woman to express their desire for their husband’s longevity. This is the reason why widows don’t wear sindoor.

2. Red is the colour expressing power
Red is the colour which depicts the energy of Sati and Parvati in Indian mythology. Sati is said to be an epitome of ideal Hindu wife who can even sacrifice her life for her husband’s sake. Hindus believe that putting vermillion will bless a woman with ‘Akhand Soubhagya’ from Goddess Parvati.

3. Sindoor controls blood pressure and increases sexual desire
A woman is expected to be sexually sound when she’s married. As the ingredients of sindoor are turmeric and lime, it is said to control blood pressure and increase libido in women. It is always placed right where our pituitary gland is situated.

4. Sindoor keeps woman calm and healthy
Scientifically, a woman puts vermillion where her Ajna Chakra or Brahma Sthana is. Putting lime and turmeric there keeps her cool and calm.

5. Sindoor symbolizes respect to Goddess Lakshmi
It is said that Goddess Lakshmi resides in five places on earth, one being our head. Putting Kumkum on the forehead is just a way of paying respect towards the goddess. Goddess Lakshmi is responsible for bringing good luck and wealth to the family.

Sindoor

6. It Is a Cultural Practice in Northern India
You’ll be surprised to know that putting sindoor on the forehead is a tradition followed by only north Indians. South Indians don’t have this sindoor tradition at all.

7. It Is Important for Husbands to Put Sindoor on Her Wife’s Forehead
During the important festivals of Navratri and Diwali, it is customary for a man to put sindoor on her wife’s forehead. It is a way of ensuring their togetherness for the rest of lives to come.

Sindoor

Sindoor is made up of vermilion, a red powder that is applied as a red streak along the parting of a woman’s hair. It is also known as kumkum or sindur.  It is a symbol of matrimony and is never applied by unmarried women or widows.  It is always applied in the centre and is a symbol of female energy. It is first put on a woman by her husband on the day of her wedding, and becomes a daily ritual thereafter.  Women have adopted different ways of wearing sindoor – at the beginning or along the parting line or as a red spot on the forehead.

Origin and History

The history can be traced to as back as 5000 years ago when Hinduism started sowing its seeds into the cultural and traditional outlook in India and around. Historians have also discovered that during the existence of Harappan civilization, it was applied along the partition of a woman’s hair and was the most prominent mark of her being married. Besides that, there are legends that revolve around Hindu mythology that indicate Radha, who was Lord Krishna’s wife, turned it into a shape, which resembled a flame onto her forehead. Several other scriptures like the Puranas also mention sindoor and its value for a married woman.

Present Day Scenario

The age old tradition of applying it amongst married Hindu women still has a lot of significance and value. People who make sindoor use vermillion, which is basically a red-orange tint. Prior to this however, it was made using more natural resources like turmeric, alum or lime. The chemicals used these days which include red lead can be toxic and one must handle the powder with extreme care and caution.

Even today, for a married Hindu woman, the sindoor signifies her desire for her husband’s long life and prosperity and is also considered a sign of her never dying love and devotion towards her better half.

On the other hand, with modernization seeping in, the tradition of applying it on a day to day basis is not customary in several sections of Hindu society, and the decision is left entirely to the woman, who may or may not wish to apply it. However, during certain religious festivals like Navaratri and Sankranti, it is customary for a husband to apply it on his wife’s forehead. During other religious events, it is also applied and offered to the various gods and goddesses.

Even the way the it is applied may vary from one woman to the next since everyone has their own particular style of adorning it. Some brides choose to fill in the entire hair line when parted, while others prefer putting it in the form of a dot right at the starting point of the hair partition. But regardless of the length or space that it fills, the sindoor is always applied in the centre.

In recent times, women have also started opting for the sindoor which is applied in the form of a triangle, and is accessorized further with a small diamond bindi.

Sindoor (Black Book for Indian Bride)

Global Appeal

Indian cinema has upheld the glory of this symbol in various movies, which even have titles with the name sindoor, for example ‘Sindoor Tere Naam Ka’, which was an Indian movie that came out in 1987. Several female characters in various Hindi movies have been shown with utmost power and courage due to the sindoor being marked on their forehead.

Interesting Facts and Comparisons

  • When the sindoor is wiped or smudged off it indicates that a woman has just lost her husband and is now a widow
  • Sindoor is thrown in the air as a sign of prosperity and honor during festivals like Holi
  • In ancient times it was made at home, but now it is readily available in the market at reasonable prices
  • The color red signifies strength, blood and fire
  • Another name for Sindoor is Kumkum
  • It is also believed that it enhances the levels of concentration
  • These days, it is available in the form of a liquid or gel which comes in a bottle that resembles the ones used for lip glosses, and women use the tip of the brush to apply it which makes the application easier and less messy

 

सिंदूर, एक सिंदूर के रंग का पाउडर, जो एक महिला के बालों के मध्य भाग में लगाया जाता है (जिसे हिंदी में “मग” भी कहा जाता है और संस्कृत में “सिंदारेरेखा”) एक विवाहित भारतीय महिला की निशानी है, लेकिन सिंदूर का महत्व अधिक है उससे। शादी के समय, सिंदूर को “कुमकुम” के रूप में भी जाना जाता है, जिसे सबसे पहले दूल्हे द्वारा दुल्हन के बालों की बिदाई के लिए लागू किया जाता है। यह वैवाहिक जीवन का प्रतीक है और एक विधवा या अविवाहित महिला इसे लागू नहीं कर सकती है।

यह महिला ऊर्जा का प्रतीक है और पारंपरिक रूप से हमेशा केंद्र में लागू होता है। इसके आवेदन के बाद, यह एक अनुष्ठान बन जाता है।

हल्दी, चूना और सिनबर को मिलाकर सिंदूर तैयार किया जाता है। पारंपरिक सिंदूर के मुख्य घटकों में से एक सिनाबर है, जो एक जहरीला पारा सल्फाइड खनिज है और इसमें एक चमकदार लाल रंग होता है जिसके कारण लोगों ने इसे दुनिया के कई हिस्सों में हजारों वर्षों तक वर्णक के रूप में उपयोग किया है, जैसे कि भारतीय उपमहाद्वीप , बांग्लादेश, पाकिस्तान, नेपाल, श्रीलंका और उन देशों में जहां हिंदू परंपरा है।सांस्कृतिक, ज्योतिषीय और धार्मिक महत्व और विश्वास
सिंदूर का अनुप्रयोग एक हिंदू परंपरा है। सिंदूर लगाने के पीछे कई कहानियां और कारण हैं।
भगवान शिव की पत्नी देवी पार्वती शक्ति और साहस का प्रतीक हैं। यह कहा गया है कि पार्वती भगवान शिव से विवाह करना चाहती थीं, जिसके लिए उन्होंने ‘तप’ किया जिसका अर्थ है ‘तपस्या’ या अनुशासन। भगवान शिव अंत में प्रकट होते हैं और शादी में अपना हाथ स्वीकार करते हैं लेकिन एक शर्त पर। शर्त यह थी कि पार्वती की तीसरी आँख का त्याग किया जाए, जो उनके माथे पर है।
पार्वती शर्त मान लेती है और विवाह के दिन शिव अपनी तीसरी आँख निकाल देते हैं, इससे रक्तस्राव होने लगता है। इस प्रकार, क्षेत्र वह स्थान बन जाता है जहां महिलाएं सिंदूर लगाती हैं और सिंदूर लाल क्यों होता है, कुछ वैकल्पिक रंग नहीं। और क्यों, शादी के दौरान भी सिंदूर का प्रयोग किया जाता है।
सिंदूर लगाने का एक अन्य कारण यह है कि जब मेहरगढ़ में महिला मूर्तियों को जमीन से निकाला जाता था, तो बलूचिस्तान ने हड़प्पा संस्कृति में अपने बालों के विभाजन में महिलाओं को सिंदूर दिखाया था।
यह तथ्य कि सिंदूर एक महिला के प्यार और पति के प्रति समर्पण को दिखाने के लिए लागू किया जाता है, इसके पीछे इसका कारण है। यह नारंगी सिंदूर के बारे में भी है जो रामायण से आता है। भगवान राम की पत्नी सीता और भगवान हनुमान, भगवान राम के भक्त इस भारतीय महाकाव्य में केंद्रीय व्यक्ति हैं। सीता को उनके आत्म-बलिदान के लिए जाना जाता है क्योंकि उन्हें अपने पति भगवान राम के लिए अपनी पवित्रता और प्यार साबित करना था। लंका में सीता को बचाने के लिए राम द्वारा हनुमान को भेजा गया था।
हनुमान ने सीता को भगवान राम के प्रति अपनी भक्ति और प्रेम दिखाने के लिए लाल बिंदी लगाते देखा। उसे देखकर, भगवान राम के प्रति अपनी भक्ति दिखाने के लिए, हनुमान ने खुद को नारंगी सिंदूर में स्नान किया। राम को यह जानकर प्रसन्नता हुई कि हनुमान ने भगवान राम के जीवन में वर्ष जोड़ने के लिए अपने शरीर को सिंदूर से ढंक दिया था। इस प्रकार, हनुमान के भक्त भगवान हनुमान के प्रति अपनी भक्ति और प्रेम दिखाने के लिए नारंगी सिंदूर लगाते हैं।
किंवदंतियों के अनुसार, भगवान कृष्ण की पत्नी राधा ने कुमकुम या सिंदूर को अपने माथे पर एक लौ की तरह डिजाइन में बदल दिया। सिंदूर कई तरीकों से लगाया जाता है, जैसे बिंदी नामक माथे के केंद्र में बिंदी, माथे पर एक ऊपर की ओर जाने वाली रेखा जिसे “तिलक” कहा जाता है, और एक महिला के बालों के मध्य भाग में सिंदूर होता है।
सामाजिक मानदंड तय करते हैं कि शादी के बाद सिंदूर महिला के पास रहना चाहिए, या जब तक उसकी शादी होती है, तब तक वह उसके साथ रहती है। सिन्दूर एकरसता का प्रमाण है, यह उसकी अनुपलब्धता और वैवाहिक स्थिति की पुष्टि करता है, साथ ही मंगल सूत्र, चूड़ियाँ, नाक पिन, पैर की अंगुली की अंगूठी, आदि।
लाल रंग शक्ति, शक्ति और सुंदरता को दर्शाता है, ये सभी गुण एक महिला में रहते हैं। महिलाएँ उसकी शादी मनाने के लिए सिंदूर लगाती हैं। जब सिंदूर किसी महिला के आम में लगाया जाता है तो यह आम के सामने से शुरू होता है और बिदाई के साथ ऊपर की ओर जाता है, ऊपर की दिशा वृद्धि और सकारात्मकता को दर्शाता है। साथ ही, सिंदूर एक महिला की अपने पति की लंबी उम्र की इच्छा की एक दृश्य अभिव्यक्ति है।
कुमकुम या सिंदूर का भारत में एक भावनात्मक जुड़ाव है। कुछ कहते हैं कि विधवा होने के डर से सिंदूर लगाया जाता है लेकिन ऐसा नहीं है। हिंदू संस्कृति और पौराणिक कथाओं के अनुसार, सिंदूर या कुमकुम प्रजनन क्षमता, विकास और समृद्धि का प्रतीक है। कई महिलाएं बिंदी की तरह सिंदूर लगाती हैं जिसे बिंदू या बिंदी कहा जाता है।
जब आपको कुछ, एक रेखा या कुछ भी खींचने की आवश्यकता होती है, तो आप पहले एक बिंदु डालते हैं, क्योंकि बिना डॉट के आप कुछ भी आकर्षित नहीं कर सकते। तो, एक बिन्दू एक बीज का प्रतीक है, बीज के बिना आप कुछ भी विकसित नहीं कर सकते हैं, इसलिए इसे उर्वरता और विकास का प्रतीक कहा जाता है।
ज्योतिषीय रूप से मेष राशि जिसे माशा राशी कहा जाता है, मानव शरीर के माथे पर निवास करती है। मंगल ग्रह वह ग्रह है जो मेष राशि के स्वामी द्वारा शासित था। मंगल लाल है। सिंदूर लाल रंग का और माथे पर भी लगाया जाता है, जो हिंदू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। सिंदूर न केवल विवाहित महिला की भलाई को प्रभावित करता है बल्कि उसके महत्वपूर्ण दूसरे को भी प्रभावित करता है।नवरात्रि और तीज जैसे कई हिंदू त्योहारों में, सिंदूर बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। नवरात्रि, जिसे दुर्गा पूजा या दुर्गा पूजा के रूप में भी जाना जाता है, एक ऐसा त्योहार है जहाँ हम हिंदू देवी, दुर्गा को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। यह पश्चिम बंगाल में विशेष रूप से लोकप्रिय है।एक बंगाली हिंदू परंपरा है जहां महिलाएं दुर्गा पूजा के अंतिम दिन विजयादशमी पर एक-दूसरे को सिंदूर लगाती हैं। इस रस्म में बंगाली विवाहित महिलाएं देवी के माथे और पैरों पर सिंदूर लगाती हैं। यहाँ सुस्वाद लाल का उपयोग नारीत्व को मनाने के लिए किया जाता है। तीज जैसे त्योहारों में, पति को अपनी पत्नियों के बालों की बिदाई पर सिंदूर लगाना पड़ता है ताकि वह उनका सम्मान कर सकें और उन्हें दिखा सकें कि, उनका रिश्ता इस सिंदूर के रंग की तरह मजबूत और गहरा है।

वर्तमान दिन परिदृश्य

सिंदूर का अनुप्रयोग आज भी वही महत्व और मूल्य रखता है। आज भी, एक विवाहित हिंदू महिला के लिए, सिंदूर उसके पति की लंबी उम्र, विकास और समृद्धि की इच्छा को साबित करता है। यह उसके महत्वपूर्ण दूसरे के प्रति उसके अटूट प्रेम को भी दर्शाता है।हालाँकि, सभी आधुनिकीकरण के साथ, अब हिंदू समाज के कई वर्गों में इस पीढ़ी के लिए सिंदूर लगाने की परंपरा मात्र है। आज की पीढ़ी की महिलाओं को इस प्रथा से मुक्त कर दिया गया था, अब वे पूरी तरह से प्रभारी हैं कि वे सिंदूर लगाना चाहती हैं या नहीं। हालांकि, कुछ त्योहारों और अनुष्ठानों के दौरान, एक पति द्वारा अपनी पत्नी के माथे पर सिंदूर लगाने का रिवाज है। सिंदूर को अब एक्सेस किया गया है, यह नई पीढ़ी द्वारा आधुनिकीकरण किया गया है।

सिंदूर के अनुप्रयोग का वैज्ञानिक महत्व

हिंदू महिला के लिए वैवाहिक जीवन का प्रतीक होने के अलावा, सिंदूर (लाल सिंदूर पाउडर) का कुछ वैज्ञानिक महत्व है। इसमें हल्दी, चूना और धातु पारा का एक मिनट का स्तर होता है। जब दुल्हन के बालों के विभाजन पर सिंदूर लगाया जाता है, तो पारा शरीर को ठंडा कर देता है और उसे सुकून देता है। यह उनके बीच एक यौन अभियान भी चलाता है। और यही कारण है कि विधवा या अविवाहित महिलाओं को इसे पहनने की अनुमति नहीं है।विवाह एक पवित्र संस्था है जो वर और वधू के लिए एक नए जीवन की शुरुआत का प्रतीक है। विवाह समारोहों के दौरान कई रस्में निभाई जाती हैं और प्रत्येक रस्म का अपना महत्व होता है। लेकिन, हर हिंदू विवाह का सबसे महत्वपूर्ण रिवाज सिंदूर दान है। यहां, दूल्हा अपनी दुल्हन के बाल विभाजन पर सिंदूर (लाल सिंदूर पाउडर) डालता है, इस प्रकार वह अपनी वैवाहिक स्थिति का प्रतीक है। कुछ समुदायों में, यह दूल्हे की मां है जो दुल्हन को अपने परिवार में स्वागत करने के लिए ऐसा करती है। सिंदूर लगाना सिर्फ एक रस्म नहीं है, बल्कि पति के लिए लंबी उम्र का प्रतीक है। लेकिन, यह इसका सिर्फ एक पहलू है। तो, हम आपको इस महत्वपूर्ण अभ्यास के बारे में अधिक बताते हैं। इसलिए, यहां कुछ महत्वपूर्ण बिंदु हैं जो ध्यान देने योग्य हैं जब आप महिलाओं के लिए सिंदूर के महत्व के बारे में सोचते हैं। आधुनिक समाज सिंदूर को विवाहित और अविवाहित महिलाओं के बीच सीमांकन रेखा के रूप में मानता है। पर ये स्थिति नहीं है। यह प्रथा बहुत गहरी है। अब 5000 से अधिक वर्षों के लिए अनुष्ठान किया गया है। इसका उपयोग हड़प्पा की खुदाई में अच्छी तरह से प्रलेखित किया गया है। सिन्दूर में पुराणों, ललिता सहस्रनाम और ध्वनि लाहारियों का भी उल्लेख मिलता है। यह सुझाव दिया गया है कि लाल रंग शक्ति का प्रतीक है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, एक महिला को अपने पति के जीवित रहने तक सिंदूर सजाना पड़ता है। यहां तक ​​कि देवी पार्वती (भगवान शिव की पत्नी) और सीता (भगवान राम की पत्नी), अपने बालों के विभाजन पर सिंदूर लगाने के लिए उपयोग करती हैं। ऐसा माना जाता है कि देवी पार्वती न केवल उन सभी विवाहित महिलाओं के पतियों की रक्षा करती हैं, जो सिंदूर लगाती हैं, बल्कि किसी भी बुरी बुराई से भी बचती हैं। तो, अगली बार जब आपकी पत्नी इसे लागू करती है, तो वह अप्रत्यक्ष रूप से आपके लंबे और स्वस्थ जीवन के लिए प्रार्थना करती है। सिंदूर का आवेदन केवल एक अनुष्ठान नहीं है, बल्कि एक अभ्यास है जो अच्छे स्वास्थ्य को उत्तेजित करता है। एक ओर, यह पति की दीर्घायु प्रार्थना के रूप में कार्य करता है, लेकिन दूसरी ओर, यह महिला की शारीरिक भलाई पर एक नज़र रखता है। हल्दी और चूने का उपयोग करके सिंदूर तैयार किया जाता है। हल्दी तनाव और तनाव को कम करने में मदद करती है। यह मस्तिष्क को सक्रिय और सतर्क रखने में भी मदद करता है।

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए

वास्तु से लेकर फेंग शुई तक, महिलाएं अपने घरों में सुख और समृद्धि लाने के लिए हर संभव प्रयास करती हैं। लेकिन, यह सिंदूर लगाने की रस्म है जो आपके सभी प्रयासों को आसान कर सकती है। हिंदू ज्योतिष के अनुसार, बालों के विभाजन पर सिंदूर लगाना शुभ माना जाता है क्योंकि यह सौभाग्य लाता है। इसके अलावा, यह माना जाता है कि लाल सिंदूर का पाउडर लगाने से माथे और मुकुट पर चक्र भी सक्रिय हो जाते हैं। यह लौकिक और प्राणिक ऊर्जा को आकर्षित करता है और जोड़े को समृद्धि और अच्छे स्वास्थ्य के साथ जोड़ता है।

सिंदूर का ज्योतिषीय महत्व

भारतीय ज्योतिष के अनुसार, माशा राशी (मेष) एक मानव शरीर के माथे पर है। मेष राशि या इसके अधिपति ग्रह का स्वामी मंगल है। यह ग्रह लाल रंग का है जिसे शुभ माना जाता है। सिन्दूर का रंग लाल होना और माथे पर लगाना भी हिंदू परंपरा में बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। ज्योतिषीय रूप से, सिंदूर न केवल विवाहित महिला की बल्कि उसके जीवन साथी की भलाई को भी प्रभावित करता है।

त्योहारों के दौरान सिंदूर का उपयोग

त्योहारों की बात करें तो सिंदूर का बहुत बड़ा महत्व है। नवरात्रि और तीज जैसे कई हिंदू त्योहारों में, यह एक रस्म है कि पति अपनी पत्नियों के माथे पर सिंदूर लगाते हैं। वास्तव में, कई हिंदू मंदिरों में, कई देवी-देवताओं को सिंदूर चढ़ाया जाता है।

मँग में सिंदूर लगाने की वजह

ऐसा माना जाता है कि क्योंकि सिंदूर एक हल्दी-आधारित पाउडर है, यह माथे क्षेत्र में अवांछित और खराब पानी को अवशोषित करता है, केवल माथे पर शुद्ध पानी छोड़ता है जो महिलाओं के लिए एकाग्रता की शक्ति को बढ़ाता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, छठा चक्र, जिसे तीसरी आंख भी कहा जाता है, भौंहों के बीच माथे पर केंद्रित है। इसलिए, सिंदूर एक पत्नी के आध्यात्मिक और मानसिक अस्तित्व के बीच एक चैनल के रूप में कार्य करता है।

हम कभी भी किसी भी विवाहित महिला के साथ नहीं आते हैं, जो अपने बालों के विभाजन में सिंदूर नहीं लगाती है। एक विवाहित महिला को उसके सिर पर सिंदूर के बिना अधूरा माना जाता है। यदि आप हिंदू पौराणिक कथाओं से गुजरते हैं, तो सिंदूर (सिंदूर) का हमारी परंपराओं में बहुत अधिक आध्यात्मिक महत्व है।

लेकिन क्या आपने कभी पूछा कि इन विवाहित महिलाओं को हमेशा सिंदूर लगाते हुए क्यों देखा जाता है? क्या यह केवल विवाहित होने का प्रतीक है या इसका कोई अन्य महत्व है? लेकिन अगर आप हमसे पूछें, तो सिंदूर पहनना सिर्फ एक परंपरा से ज्यादा है। कई कारणों से इसका पालन किया जाता है। ये कारण क्या हैं, जानने के लिए आगे पढ़ें।

1. परंपरागत रूप से, यह पति की दीर्घायु सुनिश्चित करने के लिए पहना जाता है
पारंपरिक हिंदू समाज में, शादी के बाद हर महिला को सिंदूर पहनना जरूरी माना जाता है। यह एक महिला द्वारा अपने पति की दीर्घायु की इच्छा व्यक्त करने के लिए किया गया था। यही कारण है कि विधवाएं सिंदूर नहीं पहनती हैं।

2. लाल रंग व्यक्त करने वाली शक्ति है
लाल वह रंग है जो भारतीय पौराणिक कथाओं में सती और पार्वती की ऊर्जा को दर्शाता है। सती को आदर्श हिंदू पत्नी का प्रतीक कहा जाता है, जो अपने पति के लिए अपने जीवन का बलिदान भी कर सकती है। हिंदुओं का मानना ​​है कि सिंदूर लगाने से देवी पार्वती की ‘अखंड सौभाग्य’ वाली महिला को आशीर्वाद मिलेगा।

3. सिंदूर रक्तचाप को नियंत्रित करता है और यौन इच्छा बढ़ाता है
एक महिला से यह उम्मीद की जाती है कि वह शादीशुदा होने के बाद यौन रूप से सशक्त होगी। चूंकि सिंदूर की सामग्री हल्दी और चूना है, इसलिए इसे रक्तचाप को नियंत्रित करने और महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के लिए कहा जाता है। यह हमेशा वहीं रखा जाता है जहाँ हमारी पिट्यूटरी ग्रंथि स्थित होती है।

4. सिन्दूर महिला को शांत और स्वस्थ रखता है
वैज्ञानिक रूप से, एक महिला सिंदूर लगाती है जहां उसका अजना चक्र या ब्रह्म स्थली होती है। वहां चूना और हल्दी लगाने से वह शांत और शांत रहता है।

5. सिंदूर देवी लक्ष्मी के सम्मान का प्रतीक है
ऐसा कहा जाता है कि देवी लक्ष्मी पृथ्वी पर पांच स्थानों पर निवास करती हैं, जिनमें से एक हमारे प्रमुख हैं। कुमकुम को माथे पर लगाना देवी का सम्मान करने का एक तरीका है। देवी लक्ष्मी परिवार के लिए सौभाग्य और धन लाने के लिए जिम्मेदार हैं।

6. यह उत्तरी भारत में एक सांस्कृतिक प्रथा है
आपको यह जानकर हैरानी होगी कि माथे पर सिंदूर लगाना एक परंपरा है जिसके बाद केवल उत्तर भारतीय ही होते हैं। दक्षिण भारतीयों की यह परंपरा बिल्कुल नहीं है।

7. पति के लिए अपनी पत्नी के माथे पर सिंदूर लगाना जरूरी है
नवरात्रि और दिवाली के महत्वपूर्ण त्यौहारों के दौरान, यह एक आदमी के लिए अपनी पत्नी के माथे पर सिंदूर लगाने का प्रथा है। यह आने वाले जीवन के लिए उनकी एकजुटता सुनिश्चित करने का एक तरीका है।

सिंदूर सिंदूर से बना होता है, एक लाल पाउडर जो एक महिला के बालों के भाग के साथ एक लाल लकीर के रूप में लगाया जाता है। इसे कुमकुम या सिंदूर के नाम से भी जाना जाता है। यह वैवाहिक जीवन का प्रतीक है और यह अविवाहित महिलाओं या विधवाओं द्वारा कभी लागू नहीं किया जाता है। इसे हमेशा केंद्र में लागू किया जाता है और यह महिला ऊर्जा का प्रतीक है। यह पहली बार शादी के दिन अपने पति द्वारा एक महिला पर डाला जाता है, और उसके बाद एक दैनिक अनुष्ठान बन जाता है। महिलाओं ने सिंदूर पहनने के विभिन्न तरीकों को अपनाया है – शुरुआत में या बिदाई लाइन के साथ या माथे पर लाल धब्बे के रूप में।

उत्पत्ति और इतिहास

इतिहास का पता लगाया जा सकता है कि 5000 साल पहले जब हिंदू धर्म ने भारत और आसपास के सांस्कृतिक और पारंपरिक दृष्टिकोण में अपना बीज बोना शुरू किया था। इतिहासकारों ने यह भी पता लगाया है कि हड़प्पा सभ्यता के अस्तित्व के दौरान, यह एक महिला के बालों के विभाजन के साथ लागू किया गया था और उसकी शादी होने का सबसे प्रमुख निशान था। इसके अलावा, हिंदू पौराणिक कथाओं के इर्द-गिर्द घूमने वाली किंवदंतियां हैं जो राधा, जो कि भगवान कृष्ण की पत्नी थीं, को इंगित करती हैं, इसे एक आकार में बदल दिया, जो उनके माथे पर एक ज्योति जैसा दिखता था। पुराणों की तरह कई अन्य शास्त्रों में भी एक विवाहित महिला के लिए सिंदूर और उसके मूल्य का उल्लेख है।

वर्तमान दिन परिदृश्य

विवाहित हिंदू महिलाओं के बीच इसे लागू करने की पुरानी परंपरा अभी भी बहुत महत्व और मूल्य रखती है। सिंदूर बनाने वाले लोग सिंदूर का इस्तेमाल करते हैं, जो मूल रूप से लाल-नारंगी रंग का होता है। हालांकि इससे पहले, यह हल्दी, फिटकिरी या चूने जैसे अधिक प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग करके बनाया गया था। इन दिनों जिन रसायनों का उपयोग किया जाता है, उनमें लाल रंग का लेड विषैला होता है और पाउडर को अत्यधिक सावधानी और सावधानी के साथ संभालना चाहिए।

आज भी, एक विवाहित हिंदू महिला के लिए, सिंदूर उसके पति की लंबी आयु और समृद्धि की इच्छा को दर्शाता है और उसे उसके बेहतर आधे के प्रति कभी न मरने वाले प्यार और भक्ति का संकेत भी माना जाता है।

दूसरी ओर, आधुनिकीकरण के साथ, इसे दिन-प्रतिदिन के आधार पर लागू करने की परंपरा हिंदू समाज के कई वर्गों में प्रचलित नहीं है, और निर्णय पूरी तरह से महिला को छोड़ दिया जाता है, जो इसे लागू करने की इच्छा नहीं कर सकता है या नहीं। । हालाँकि, नवरात्रि और संक्रांति जैसे कुछ धार्मिक त्योहारों के दौरान, पति द्वारा अपनी पत्नी के माथे पर इसे लगाने का रिवाज़ है। अन्य धार्मिक आयोजनों के दौरान, इसे विभिन्न देवी-देवताओं को भी चढ़ाया और चढ़ाया जाता है।

यहां तक ​​कि जिस तरह से इसे लागू किया जाता है, वह एक महिला से दूसरी में भिन्न हो सकती है क्योंकि हर किसी की अपनी विशेष शैली होती है। कुछ दुल्हनें भाग लेते समय पूरे बालों की रेखा को भरना पसंद करती हैं, जबकि अन्य इसे बालों के विभाजन के शुरुआती बिंदु पर डॉट के रूप में लगाना पसंद करते हैं। लेकिन इसकी लंबाई या स्थान की परवाह किए बिना, यह हमेशा केंद्र में लागू होता है।

हाल के दिनों में, महिलाओं ने सिंदूर के लिए भी चयन करना शुरू कर दिया है, जिसे एक त्रिकोण के रूप में लागू किया जाता है, और एक छोटे हीरे की बिंदी के साथ आगे पहुँचा जाता है।

ग्लोबल अपील

भारतीय सिनेमा ने विभिन्न फिल्मों में इस प्रतीक की महिमा को बरकरार रखा है, जिसका नाम सिंदूर भी है, उदाहरण के लिए ‘सिंदूर तेरे नाम का’, जो 1987 में आई एक भारतीय फिल्म थी। विभिन्न हिंदी फिल्मों में कई महिला किरदार हैं सिंदूर उनके माथे पर अंकित होने के कारण अत्यंत शक्ति और साहस के साथ दिखाया गया है।

रोचक तथ्य और तुलना
जब सिंदूर को मिटा दिया जाता है या उसे मिटा दिया जाता है, तो यह इंगित करता है कि एक महिला ने सिर्फ अपने पति को खो दिया है और अब एक विधवा है
सिन्दूर को होली जैसे त्योहारों के दौरान समृद्धि और सम्मान की निशानी के रूप में हवा में फेंक दिया जाता है
प्राचीन समय में इसे घर पर बनाया जाता था, लेकिन अब यह बाजार में उचित मूल्य पर आसानी से उपलब्ध है
रंग लाल शक्ति, रक्त और आग का प्रतीक है
सिंदूर का दूसरा नाम कुमकुम है
यह भी माना जाता है कि यह एकाग्रता के स्तर को बढ़ाता है
इन दिनों, यह एक तरल या जेल के रूप में उपलब्ध होता है, जो एक बोतल में आता है जो लिप ग्लॉस के लिए इस्तेमाल की जाने वाली चीज़ों से मिलता-जुलता है, और महिलाएँ इसे लगाने के लिए ब्रश की नोक का इस्तेमाल करती हैं जिससे एप्लिकेशन आसान और कम गन्दा हो जाता है

Related Articles

Responses